Posts

Showing posts from March, 2015

आखिर कब होगी सुबह...

Image
भेदभाव सदियों से रहा है ,पुरुषों के मन में
जब बात आती है  औरत की ,
वेद हो या पुराण,
रामायण या महाभारत,
बताती हैं हमारे ग्रंथो की पौराणिक  कहानियां ,
कौन नहीं जानता अहिल्या की कहानी , बलि चढ़ गयी थी इसी क्रूरता की,
एक तथाकथित महान संत की ,
शालीन , खूबसूरत  पत्नी ,
हुयी थी शापित ऐसे कृत्य के लिए ,
जो उसने किया ही नहीं .....

इन्द्र हमारे यश्स्वी देवताओं का राजा ,

वेश बदल कर अहिल्या के पति का  ,
एक दिन करता है पोषित अपनी वासना...
और वो क्रोधित महान संत  ,
नहीं समझते अहिल्या की मनोदशा,
और श्राप देते हैं उसे पत्थर बन जाने का ,
ये कह कर की वो तभी पवित्र होगी ,
जब श्री राम के चरण करेंगे उसका उद्धार ,
और अहिल्या अपने पति की आज्ञा स्वीकार कर ,
इंतज़ार करती  रही वर्षों तक मुक्ति का ,
अपनी आत्मा को पत्थर में कैद कर ... ,

ये है हमारा समाज और इस समाज के पुरुष,

जो आदमी के कुकर्मों की सजा भी देते है स्त्री को ,
अहिल्या का अस्तित्त्व आज भी नहीं बदला ,
और न ही बदले आधुनिक समाज के तथाकथित संत ,
जो आज भी बलात्कार के बाद स्त्री से करते हैं प्रश्न ,
तुमने छोटे कपडे क्यों पहने थे ?
और भला क्यों निकली थी घर से अकेली ?
कौन कहता है समय बदल …