Posts

Showing posts from June, 2016

मुझे भूलना नहीं ....

Image
टेढ़ी मेढ़ी कच्ची पगडंडियां से नीचे उतरते ही ,   आँखों से ओझल होते जाते हैं खेत,खलिहान , और डामर वाली पक्की चौड़ी सड़क , ले जाती है गाँव से दूर मुझे शहरों की ओर, बेहतर जीवन की लालसा में  पर जिंदगी की जद्दोजहद के बीच  , अक्सर पुकारता है  गाँव मेरा , 'मुझे भूलना नहीं ' याद दिलाता हुआ सा .....

गाँव के सिराहने सिराहने जंगल की हरीतिमा , बाखलियों से नीचे नदी तक ढलानों में खेत , आढू खुमानी से लदे हुए पेड़ , छतों मैं फैली कद्दू ककड़ियों की बेल , खेतों में घुटनों घुटनों लहलहाता गेहूं  , चीड़ देवदार और बांज के  जंगल  , अक्सर याद आते हैं मुझे, तिमील, बुरांस और काफल ......
घाघरे और चोली में रंग बिरंगी गोट , कमर में बंधा हुआ धोती का फेंटा, माथे में पिठियाँ अक्षत ,लाल टिकुली , गले मैं  गुलुबन्द ,हाथ में दराती, बांज और गाज्यो  काटती , गीतों की धुन से जंगल गुंजाती , अक्सर याद आती हैं मुझे  आमा ,काकी, जड़जा और बोजी ......
भट का जौला ,लहसुन हरी धनिया का नमक, घौत की दाल और भांग की चटनी , हरी पालक और लायी का टपकिया, आलू के गुटके , ककड़ी का रायता, गडेरी की सब्जी ,जम्बू से छोंकी हुयी  दाल, सना हुआ नींबू , ऊखल कुटे चावलों का भात , अक्स…