Posts

Showing posts from 2018

एक ख्याल.....बेवजह

मैं उदास थी ,कुछ परेशान  थी | आज कोई अच्छी खबर नहीं थी , खुश होने की कोई वजह नहीं थी | अनमनी सी मैंने खिड़की से झाँका, इधर उधर हर तरफ ताका |
पेड़ मस्ती में झूम रहे थे,
पंछी चहचहाते उड़ रहे थे, इधर बगिया में फूल  इतरा रहे थे  , उधर गिलहरियां मुंडेर में फुदक  रही थी,
कहीं भी तो  कोई मायूसी नहीं थी।

विस्मित थी कौतुहल वश मैंने पूछा उनसे, बेटा हुआ होगा या लॉटरी लगी होगी ,
चुनाव जीते हो या नौकरी लगी होगी,  सुनो यूं ही कोई खुश होता नहीं , जरूर कोई तो अच्छी खबर  होगी |
घूरकर देखा मुझे, फिर ठठाकर हंस पड़े ,
मेरी बातें सुन सब एक स्वर में बोल पड़े ,
कितना बांवरा है ये इंसान , हर हाल में क्यूँ ना रहता है सहज , खुश रहने के लिए भी चाहिए होती है क्या कोई वजह ?
वो तो बस एक सपना था, 
जो आँख खुली और टूट गया, लेकिन एक यथार्थ से अवगत मुझे करा गया , जब पूरी कायनात  खुश होती है बेवजह, तो हम ही क्यों ढूंढते हैं खुश रहने की कोई वजह ????
ममता