गौरैया...

गौरैया !!
पहले तुम रोज सुबह आया करती थी ,

घर के आँगन  में फुदकती चहकती ,
तिनका तिनका बीन कर नीढ़ सजाती थी तुम,
कभी खिड़की कभी चौखट से झांकती ,
घर के हर एक कोने को पहचानती थी तुम ,
पर गौरैया अब तुम  नहीं आती,
तुम्हारा आना शुभ है गौरेया ,
आया करो ,
अपना घर भूला नहीं करते ,
मैं रास्ता देखूंगी ...
आना फिर कभी ना जाने के लिए....

                                               ...   mamta

Comments

  1. ...Apna Ghar Bhulte nahi.... wah bahut sundar bhav...Gauraya ke liye..

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद दिनेश जी..

    ReplyDelete
  3. पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ - रचनाओं ने प्रभावित किया और ब्लॉग भी सुंदर लगा.

    ReplyDelete
  4. Replies
    1. Thanks Meeta di ...ur cpmments motivate me...:)

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

जिंदगी और मौत ...मेरा नजरिया...

पहाड़ी औरत .............

अभिनंदन नव वर्ष ....