आखिर क्यूँ

माना बलिष्ठ है पुरूष,स्त्री की उससे समानता नहीं है,
पर स्त्री पुरूष की दासी नहीं है ,
स्त्री को सुरक्षा भरा घेरा चाहिए,
पुरूष सुरक्षा देने से करता है इनकार,
उलटे करता है उसकी अस्मिता में प्रहार ,
क्यूँ??
महिला दिवस तब तक है बेकार,
जब तक महिलाओ पर होगा अत्याचार ...


                                                         ... ... mamta

Comments

  1. kiya baat kiya baat................

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद Anonymous उत्साह वर्धन के लिए ....

      Delete
  2. सत्य बयां किया है आपने ममता जी विवशता तो यही है कि व्यक्ति जिससे जन्म लेता है उसे प्रताड़ित करता है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद अरुण जी हमारे देश की यही विडम्बना है....

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

जिंदगी और मौत ...मेरा नजरिया...

पहाड़ी औरत .............

अभिनंदन नव वर्ष ....