मज़हब


मैने हिन्दू के घर जनम लिया तो हिन्दू हो गयी ,

मुसलमान के घर लेती तो मुसलमान हो जाती,
आज रामायण है तब हाथ में कुरान आ जाती,
मंदिर के घंटो की जगह मुझे अजान की आवाज़ भाती ,
जो धर्म सिखाता है इंसान वही बन जाता है ,
आत्मा तो वही है बस नाम बदल जाता है

Comments

  1. Bahut sahi baat kahi aapne.. Hamara bhi manna ha ki Dharma dharyati iti sah dharma. jo hm dharan karte hain wahi dharm ban jataha. lakin aaj ka inshan dharm ke naam par dange karwane, rajniti karne se baaaj nahi aa rha...isliye dharm ka ye roop nahi bha rha......

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

जिंदगी और मौत ...मेरा नजरिया...

पहाड़ी औरत .............

अभिनंदन नव वर्ष ....