wish...

एक  दिन  मैं पर्वत बन जाउंगी ....
अविचलित,अखंड , आकर्षक ....
आसमान को छूते पर्वत  ...
और ..
आसमान से सितारे  चुराकर
धीरे धीरे प्यार से बिखरा दूंगी
प्यासी धरती मे......



















Comments

  1. ममता जी बहुत सुन्दर रचना , क्या बात है बेहतरीन पंक्तियों के साथ अति सुन्दर भाव मन को छू जाने वाले कोमल शव्दों के साथ

    ReplyDelete
  2. कम शब्दों में अधिक बात.... बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  3. Bahut sundar..bhav... Dheere Dheere Pyar Bikhardunki, Pyashi Dharti me........Waha sadhuwad Seema ji..

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

जिंदगी और मौत ...मेरा नजरिया...

पहाड़ी औरत .............

अभिनंदन नव वर्ष ....